माँ के बाद बेटी की सील तोड़ी

हेलो दोस्तों, मेरा नाम कबीर है और मैं नॉएडा का रहने वाला हु। मैं अक्सर अन्तर्वासना की कहानी लिखता रहता हु और अपने जीवन के कुछ हिस्से आप सबको बताता रहता हु। यह कहानी मेरी पड़ोसन रीना से जुडी हुई है। रीना एक शादीशुदा औरत है और उसकी सिर्फ एक ही बेटी है और पति बैंक मैनेजर है। मेरे और रीना के नाजायज़ संभंध को साल हो चुके है। पहले हम दोनों सिर्फ अपनी शारीरक ज़रूरत पूरी कर रहे थे लेकिन हम दोनों को प्यार भी हो गया। 

एक दिन रीना और मैं बात कर रहे थे फ़ोन पर, तो उसने कहा उसकी मेघा अब कॉलेज कम्पलीट कर चुकी है। मेघा मुझे जानती है लेकिन सिर्फ एक पडोसी के तौर पर। उससे रीना और मेरे बारे में पता नहीं। मेघा को मुंबई से कॉल आया था उसकी आगे की पढाई के लिए जिसके लिए उससे एक टेस्ट देना पड़ेगा। रीना के पति सुरेश मेघा को जाने नहीं दे रहे थे। लेकिन रीना को मैंने कहा की मुंबई के कॉलेज में मेरा जुगाड़ है, मैं पास करवा दूंगा। इसी के साथ सुरेश भी मान गया और हम दोनों चले गए मुंबई। 

मैं और मेघा के बीच कभी ज़्यादा बातें नहीं होती है। लेकिन पिछले एक साल से मेरी उस पर नज़र थी। वो रीना से भी ज़्यादा दिखने में खूबसूरत और सेक्सी है। उसकी चूचियों को देखकर तो मैं पागल सा हो जाता हु। रीना और उसकी बेटी दोनों ही गज़ब की माल है। 

मुंबई पहुँचने के अगले दिन ही मेघा का टेस्ट था, मैं थोड़ा जुगाड़ बनाया और उसी दिन पता चल गया की वो पास हो गयी। हम दोनों होटल रूम में आये और मैं सीधा बेड पर पसर गया। 

मेघा ने कहाथैंक्स अंकल, आपका यह एहसान मैं कभी नहीं उतार पाऊँगी

मैंने कहाएहसास उतार सकती हो, पूरी रात पड़ी है

मेघा ने मुस्कुराते हुए कहाठीक है पापा

मैंने कहापापा मतलब

मेघा फिर मुस्कुराते हुए बोलीमैं जानती हु आपके और मम्मी के बीच के रिश्ते के बारे में। मैंने आप दोनों को सेक्स करते हुए देख लिया था। मैंने किसीसे कुछ नहीं कहा, क्यूंकि मैं जानती हु आप उनका बहुत ख्याल रखते है। मेरे सगे बाप ने तो कभी उन्हें प्यार से नहीं रखा

मैंने यह सब सुनकर एकदम छुप हो गया। मैंने मेघा के साथ सोने का मैं फिर नहीं बनाया। इतना कहकर वो बाथरूम चली गयी नहाने। जब बहार निकली तो एक टीशर्ट और शॉर्ट्स में बहार गयी। उससे देखकर मैं पागल सा हो गया, किसी पूनम पांडेय से कम नहीं लग रही थी। मैं देखकर बाथरूम चला गया नहाने। 

वापस आया तो मेघा फ़ोन में थी, मैं उसके पास जाकर बैठ गया। मैंने सिर्फ लोअर पहन रखा था। मैं धीरे धीरे उसकी मुलायम और गोरी जांघों पर हाथ फेरने लगा। उसने मुझे कसकर सीने से लगा लिया औरआई लव यूकहा। मैं तुरंत उसकी टीशर्ट निकल फेकी और बेड पर अपने नीचे सुला दिया। उसकी दोनों चूचियां बिलकुल नंगी और आज़ाद थी। मैं उसके ऊपर लेट गया और चूचियों को पीने लग गया, एक हाथ से मैं उसकी शॉर्ट्स उतार दी, मेघा मेरे सामने बिलकुल नंगी थी। 

मेघा मेरे बदन से लिपट गयी और मैं उसके पुरे मुलायम बदन को चूमने लगा। मैं पहला शख्स था जो उसकी सील तोड़ने वाला था। मेघा भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। वो भी मेरे लंड को सहलाये जा रही थी। मेरा लंड बिलकुल तन गया था। अचानक वो मेरे ऊपर बैठ गयी और मेरे लंड को अपनी चुत में घुसाने की कोशिश कर रही थी। काफी देर तक उससे लंड सेट नहीं हो रहा था। मैंने फिर अपना लंड पकड़ा और वो एकदम से बैठ गयी, वो इतनी ज़ोर से चिलायी की जिसका कोई हिसाब नहीं। 

मेघा ने कहापापा आपका एहसान उतार रही हु मैं

वो ज़ोर ज़ोर से मेरे लंड के ऊपर कूद रही थी, कभी मैं उससे उठा उठाकर छोड़ता, कभी वो अपनी स्पीड बढ़ा लेती थी, यह सिलसिला लगभग २० मिनट तक चलता रहा, लेकिन मैंने अपना पानी नहीं छोड़ा, मैंने उससे अपने नीचे लेटाया और फिर उसकी जमकर ठुकाई की, सील टूटने पर उसकी आँखों में आंसू थे, लेकिन साथ में उसको मज़ा भी रहा था। जब नीचे लेती तो अपने हाटों से चूचियों को पीला रही थी मुझे। उसकी चूचियों में एक अलग ही मज़ा था। 

थोड़ी देर में मेरे लंड में दर्द होने लग गया, मैं समज गया था की अब रस निकलना ही पड़ेगा। 

मैंने कहामेघा कहा निकालू अपना रस

मेघा बोलीजहा आपका मन

मैंने अपने लंड को हिलाते हुए अपना सारा रस मेघा के मुँह पर गिरा दिया। मेघा का पूरा मुँह मेरे रस से धूल गया था। वो उँगलियों से ले लेकर चाट रही थी। 

मैंने कहाबेटा, तुम्हारी गांड से बड़ी अच्छी खुसबू रही है, ज़रा दिखानामेघा समज चुकी थी की मैं क्या चाहता हु

मेघा ने अपनी गांड मेरे मुँह पर रख दी और मैं बिलकुल मजे से छात रहा था। कुछ अलग सी खुसबू थी, जो मुझे बहुत पसंद रही थी। काफी देर तक मैं उसकी गांड छाती, दूसरी तरफ मेघा भी मेरे लंड को सहलाते हुए, चूस रही थी। ज़िन्दगी में पहली बार वो किसीका लंड चूस रही थी, तो उससे मजा रहा था। अब मैंने मेघा को घोड़ी बनाया और पीछे से लंड को उसकी गांड से रगड़ने लगा। मेघा भी चाहती थी की उसकी गांड की ठुकाई हो। मैंने झटके से अपना पूरा लंड मेघा की गांड में घुसाया और बालों को पकड़ कर, मैं उसकी गांड मार रहा था। जैसे ही वो सिसकियाँ भर्ती, मेरे स्पीड और बढ़ जाती। इस बार मेरे लंड के काफी जल्दी रस छोड़ दिए था, इस बार सारा रस मेघा की गांड में गिरा दिया था। 

मेघा बोलीपापा आप लेट जाओ

मेघा मेरे लंड को साफ़ कर रही थी और साथ ही मेरे शरीर को दबा भी रही थी। अगले दिन मैं नॉएडा निकल गया और मेघा से कहाढंग से पढाई करनामैं मेघा की सील तोड़ी यह बात रीना को बताई, तो वो थोड़ी उदास हो गयी। रीना ने मेरे सामने ही मेघा को फ़ोन लगाया और पूछाबेटा तुम खुश जो कुछ हुआ तुम्हारे और इनके बीच

मेघा ने कहावो आपका और मेरा दोनों का अच्छे से ख्याल रखते है, जो भी कुछ हुआ मैं खुश हुआ

रीना ने कहाबेटा पढाई करना,, बाद में फ़ोन करूँगा

अब मैं रीना को बाहों में लिया और बैडरूम ले गया। क्या करे बहुत दिनों से रीना की गांड भी नहीं मारी थी। दोस्तों अब मैं रीना और मेघा दोनों का ख्याल रखता हु। यह दोनों ही मेरा परिवार है। अब हम तीनो साथ में भी सेक्स करने लग गए है।