बीवी की ख़ास दोस्त को अपने लंड की रानी बनाया

हेलो दोस्तों, मैं बलराम अल्लाहाबाद के पास एक गांव में रहता हु। मैं यही एक फैक्ट्री में काम करता हु, मैं शादी शुदा और मेरा एक बचा भी है। भगवान की कृपा मेरी ज़िन्दगी काफी अच्छी है। यह कहानी है इसी मार्च से महीने की जब मेरी बीवी के पास उसकी सहेली का फ़ोन आया। वो सहेली का नाम है रानी है, और मेरी बीवी की सबसे ज़्यादा ख़ास सहेली है। वो अल्लाहाबाद सेहर में रहती है। उसने बताया की वो मिलने आने वाली है। 

मेरी बीवी ने कहाकल रानी आने वाली है, मेरी ख़ास दोस्त है, आप भी मिलना उससे

मैंने कहामैं तो नहीं पहचानता

मेरी बीवी पूजा ने कहाकोई नहीं, कल आएगी तो मिल लेना

अब अगले दिन सुबह १० बजे मैं बस स्टैंड गया। अब मैंने सोचा की फ़ोन करू और पूजा को बता दू, की मैं पहुँच गया। इतने में ही एक बहुत खूबसूरत औरत बस में से उत्तरी। मैं उससे देखते ही रह गया, एकदम कैसा हुआ बदन और गोरा रंग और लम्बे लम्बे बाल। मैं समाज गया था की यही रानी है। मैं रानी को देखता ही रह गया। 

अचानक उसने कहाकहा खो गए आप

मैं देखता ही रह गया और कहाकुछ नहीं, चलो तुम्हे घर ले चलता हु। 

वो मेरे पीछे बैठ गयी और पुरे रास्ते मैंने कुछ बात नहीं की। बस मन ही मन में मेरे सामने बार बार रानी का चेहरा रहा था। 

अब हम घर पहुंचे और साथ में चाय नास्ता किया। मैं बहार वाले कमरे में बैठा था और पूजा रानी के साथ अंदर वाले कमरे में। मैं छुप छुपकर रानी को देख रहा था। कुछ देर बाद पूजा ने सबको खाना दिया और हमने खूब बातें की। 

अचानक रानी ने कहामुझे जाना होगा अब

सुनते ही उसने अपना सामन उठाया और हम दोनों बस स्टैंड चले गए। 

बस स्टैंड पर रानी ने कहाआप अपना नंबर दे दीजिये, पूजा का फ़ोन तो खराब हो गया” 

मैंने अपन नंबर दिया और वापस मिस्ड कॉल करने के लिए कहा। थोड़ी देर में ही बस गयी और वो चली गयी। मैं भी अपना घर गया और फिर रात होते ही सो गया। 

सुबह मैं बजे उठा तो ऐसे ही व्हाट्सप्प चला रहा था, तो मैंने देखा रानी नेगुड मॉर्निंगलिखा। मैं भी रिप्लाई मेंगुड मॉर्निंगलिख दिया और फिर अचानक पूजा गयी तो फ़ोन साइड में रख दिया। मैं नाश्ता करकर अपनी फैक्ट्री चले गया। अचानक रानी का १२ बजे दोपहर को मैसेज आयाक्या कर रहे हो आप?”

मैंने तुरंत कहाकुछ नहीं अभी तो थोड़ा फ्री हु

रानी ने कहाअच्छी बात है

फिर मैंने पूछारात कैसी गुज़री?”

रानी ने कहाबस अच्छे से नींद नहीं आयी

मैंने तुरंत कहाक्या हुआ? पतिदेव ने सोने नहीं दिया क्या

रानी ने कहानहीं, वो तो मुंबई में रहते है

मैंने कहाओके अच्छी बात है

रानी ने जवाब में कहाबलदेव जी आप मुझे पसंद हो

मैंने खुस होते हुए लिखामैं भी बहुत पसंद करता हु, तुम्हे देखकर पागल सा हो गया हु

हस्ते हुए रानी ने कहाआप घर आजाओ मेरे

खुस होते हुए कहातुम तो मेरी साली जैसे हो, ज़रूर मिल सकता हु

रानी ने कहाकल सुबह ११ बजे तक आप घर आजाओ, मुझे कुछ काम है

मैंने कहाआप एड्रेस भेज देना, मैं आजाऊंगा

रानी ने कहाओके जीजाजी

अब मुझे पूरी रात नींद नहीं आयी, मैं ख़ुशी के मारे पागल हो रहा था। सोच रहा था कब सुबह हो और मैं निकलू। पूरी रात मुझे नींद नहीं आयी। 

मैंने पूजा से कहामैं ऑफिस के काम से अल्लाहाबाद जा रहा हु,,आते वक़्त देर हो जाएगी

पूजा ने कहासंभलकर जाना

मैंने पहले पास की दूकान से कंडोम खरीदा और कुछ चॉकलेट्स। मैंने बस पकड़ी और बराबर ११ बजे मैं उसके घर पहुँच गया। रानी ने एक मस्त गुलाबी रंग का सूट पहना था जिससे उसका गोरा रंग और उभर कर रहा था। रानी को कुछ कागज़ी काम था, तो इसलिए उसने मुझे बुलाया। हम दोनों ने साथ मिलकर काम किया लेकिन मैं यह सोच रहा था की यह कुछ इशारे क्यों नहीं कर रही। मैंने सोचा, शायद इससे दिलचसभि नहीं। 

मैंने काम करकर कहाचलो, अब मैं चलता हु। 

इतने में रानी पास आयी और कहाअपने तो कुछ नहीं लिया हमसे

मैंने कहातुम्हारा मतलब?”

रानी ने हस्ते हुए कहाजीजू मतलब चाय पानी

मैंने कहामैं कुछ और समज रहा था

रानी ने फिर कहाअच्छा, ऐसा क्या चाहिए आपको

मैंने कहाकुछ नहीं

लग रहा था रानी भी समज रही थी। 

वो किचन में गयी और चाय लेकर गयी, इस बार वो बिना दुपट्टा के गयी। जब वो चाय देने झुकी तो मैं उसकी चूचियों को घूर रहा था। 

हस्ते हुए रानी ने कहाक्या देख रहे हो जीजाजी

मैंने कहाचाय में मज़ा नहीं, मुझे दूध पीना ज़्यादा पसंद है

झुकते हुए रानी ने कहाजी, दूध मिल जायेगा आपको वो भी मीठा और ताज़ा

मैंने आँखों में देखकर कहामुझे तुम्हारे दूध चाहिए

उसका चेहरा गुस्से से लाल हो गया। मुझे लगा, आज तो तलाक पक्का। 

तभी रानी ने कहासाली आधी घरवाली होती है, दूध आपको मिल जायेगा

बस फिर क्या था मैंने उससे कसकर अपने पास खींचा और होटों को चूमने लगा। रानी मुझसे दूर होना चाहती थी, लेकिन नहीं हो पायी। मैं भी कसकर उसकी एक चूची को ज़ोर से मसल रहा था और साथ में होटों का रस भी पी रहा था। मैंने अपनी शर्ट उतार दी और साथ में उसका सूट भी उतार फेका। उसने गुलाबी रंग की ब्रा पहनी थी जिससे मैंने ऊपर की तरफ किया तो उसकी चूचियों बिलकुल आज़ाद और नंगी हो गयी थी। 

मैं उसके एक निप्पल को पी रहा था और दूसरे को मसल रहा था। वो भी ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ भर रही थी। यह पल में वो मेरा अच्छे से साथ दे रही थी। अचानक रानी ने कहाजीजी अपने कपडे उतार दो

मैंने कहातुम उतार देती तो अछा रहता ” 

रानी ने मेरी पैंट और अंडरवियर निकल दिया। मैंने रानी की ब्रा के हुक खोले दिए और साथ में उसकी सलवार संग पैंटी भी उतार दी। हम दोनों बिस्तर पर बिलकुल नंगे थे। मैंने एक तरफ उसकी चूचियों को पी रहा था और दूसरी तरफ चुत में ऊँगली दाल रहा था। मैं नीचे की तरफ जा रहा था। रानी ने पूछाक्या करने जा रहे हो

मैंने कहाअमृत जैसा मीठा रस पीने

रानी ने कहामेरे पति नहीं करते

मैंने कहारुको और मजे लो

मैं उसकी चुत में ऊँगली दाल डालकर रस निकल रहा था और दूसरी तरफ रानी पागल हो गयी थी। कुछ देर बाद रानी के चुत में से रस निकला और मैंने पूरा चाट लिया। मैं उठा और अपने लंड को चुसवाने का इशारा दिया। 

रानी ने कहामैं कभी लंड नहीं चूसा, यह तो बहुत बड़ा है

मैंने जबरदस्ती उसके मुँह में पूरा लंड घुसा दिया। पहले तो वो ढंग से नहीं चूस रही थी, लेकिन फिर तो मेरा लंड उससे लोल्लयपोप जैसा लग रहा था। मेरा लंड चोदने के लिए बिलकुल तैयार था। मैं कहाक्या करू साली साहिबा बता दीजिये

रानी ने हस्ते हुए कहाज़रा अपने लंड को भी अमृत जैसा लंड पीला दीजिये

मैंने रानी की चुत से लंड रगड़ना शुरू कर दिया और मैंने एक साथ अपना पूरा लंड घुसा दिया। 

रानी ज़ोर से चिलायी और कहामुझे तो मार ही डाला तुमने

तकरीबन बात यह थी की मैंने उससे रंडी बना दिया। एक तरफ होटों से मज़ा दूसरी तरफ चूचियों को ज़ोर से दबाना साथ में चुत की भी ज़बरदस्त ठुकाई। वो आंखें  बंद करकर लेते पड़ी थी और मैं पुरे शरीर के मजे ले रहा था। जैसे ही मैं स्पीड बढ़ता वो मन करती लेकिन मैं नहीं रुकता, लेकिन वो भी खूब साथ दे रही थी। 

अचानक रानी ने कहाबस मुझे दर्द हो रहा है

मैं समाज गया की यह तो गयी। मैंने कहारस कहा गिराऊ अपना

रानी ने कहाजीजू जहा आपका मन

मैं अपना लंड हिलाया और सारा रस दोनों चूचियों पर गिरा दिया और वो तुरंत अपनी चूचियों को चाटने लगी। 

हम दोनों काफी थक चुके थे और इस बीच मैं कंडोम निकलना भूल गया था। लेकिन रानी अपने आप संभल लेगी। 

यह चुदाई का सिलसिला अब भी चलता है और हर हफ्ते चलता है। 

दोस्तों कैसी लगी मेरी कहानी ज़रूर बताना।